18-Oct-2018 02:56:33 PM

रायसेन म.प्र.(रामू टेकाम की रिपोर्ट) 28/01/2018 ।। आदिवासी स्नेह सम्मेलन में आदिवासी समाज मे उत्क्रष्ट कार्य करने, वरिष्ठ समाज सेवीयों एवं समाज के मेधावी छात्र-छात्राओं का सम्मान किया गया।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में आये सभी वक्ताओं ने अपनी-अपनी बातें रखी । सुश्री अनुसूईया उइके जी (पूर्व राज्यसभा सांसद ) राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनुसूचित जनजाति आयोग भारत सरकार नई दिल्ली इन्होंने अपने उदभोदन में कहा समाज के विकास व रक्षा के लिए आदिवासी समाज के समस्त सम्माननीय जनप्रतिनिधि पार्टी मोह छोड़कर दलगत राजनीति से उपर उठकर समर्पित भाव से काम करने की ज़रुरत है ।

शेयर करे

खरगोन म.प्र. / आदिवासी समाज ने 26 जनवरी 2018 को क्रांतिकारी टंट्या मामा का जन्म दिवस मनाया। खरगोन जिले के सेगांव में महानायक टंटया मामा की जयंती बड़े ही धूमधाम से मनाई गई तथा खोलगांव में ग्राम सभा के गठन हेतु ग्राम वासियों को टंट्या मामा की जयंती मनाने लिये जागरूक किया गया। और गांव के जयस (जय आदिवासी युवाशक्ति) टीम के साथियों द्वारा
मांदल प्रतियोगिता का आयोजन भी रखा गया था।

शेयर करे

बैतूल (म.प्र.)मनीष कुमार धुर्वे/ जिले में आदिवासी समुदाय द्वारा सामाज सुधार हेतू एक अतुलनीय पहल की जा रही है। जिसमें संगठनों के माध्यम से समस्त मातृशक्ति, पितृशक्ति एवं मांझी सरकार संस्था के समस्त आदिवासी किसान सैनिक प्रतिनिधि से अपील किया किया गया है। श्री मांझी अंतराष्ट्रीय समाजवाद आदिवासी किसान सैनिक संस्था इकाई बैतूल एवं समस्त आदिवासी समाज संगठन बैतूल के तत्वाधान में सुभाषचंद्र बोस की जयंती के उपलक्ष्य में आदिवासियों के विभिन्न जटिल समस्याओं को लेकर विशाल आदिवासी महापंचायत का आयोजन किया गया है। जिसमे बैतूल जिले के 40 हजार सैनिक शामिल होएंगे। आदिवासी समाजसेवी मनीष कुमार धुर्वे ने अपील क

शेयर करे

राजपिपला जिला- नर्मदा (गुजरात) / वर्ष 2018 में आदिवासी समुदाय की संस्कृति को संजोए रखने वाला, आदिवासी एकता परिषद का 25वां सांस्कृतिक एकता महासम्मेलन सफलतापूर्वक संपन्न हुआ ।

शेयर करे

सतना जिले के रामपुर बाघेलान तहसील में इस समय पढ़ने वाले छात्र एवं छात्रायें
कॉलेज में कम तहसील में ज्यादा दिखाई पड़ते है। पूछने पर पता चला की सभी
लोग जाति- प्रमाण पत्र के लिए भटक रहे है। छात्रवृत्ति की अंतिम तिथि 15 अक्टूबर
है। जिस कारण सभी अपनी- अपनी कक्षाए छोड़ कर यहाँ आना पड़ता है। जानकारी
लेने से पता चला की S D O एक महीने से कार्यालय अ ही नही रहे है। ये छात्रो के भविष्य
के साथ खिलवाड़ है। नही है तो क्या है।

शेयर करे

जनता की राय

क्या देश में आदिवासी सरकार बनना चाहिए ?

User login