18-Oct-2018 02:41:45 PM

नई दिल्ली, 09 अप्रैल (BIRSA LIVE न्यूज़)। देश के करीब 34 करोड़ पोस्ट आफिस सेविंग्स अकाउंट होल्डर्स मई से सारी सर्विसेज ऑनलाइन ले पाएंगे। सरकार ने पोस्ट आफिस अकाउंट्स को इंडियन पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) से लिंक करने की अनुमति दे दी है। मई से पोस्ट आफिस के खाताधारकों को भी डिजिटल बैंकिंग सर्विसेज लेने का मौका मिल जाएगा। वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि फाइनांस मिनिस्ट्री ने पोस्ट आफिस के बैंक खातों को आईपीपीबी से लिंक करने की अनुमति दे दी है। यानी अब पोस्ट आफिस के खाताधारक भी ऑनलाइन अपने अकाउंट से दूसरे अकाउंट में पैसे ट्रांसफर पाएंगे। 34 करोड़ सेविंग अकाउंट्स में से 17 करोड़ पोस्ट आफिस सेविंग्स बैंक अकाउंट्स हैं और बाकी मासिक इन्कम स्कीम्स और आरडी आदि के हैं। सरकार के इस कदम से देश का सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क भी बनेगा क्योंकि भारतीय डाक 1.55 लाख पोस्ट ऑफिस की ब्रांचों को आईपीपीबी  से लिंक करने की योजना भी बना रहा है। भारतीय डाक ने अहम बैंकिंग सर्विसेज की शुरुआत तो कर दी है, लेकिन अभी पैसा ट्रांसफर केवल पोस्ट आफिस सेविंग्स बैंक अकाउंट्स में ही हो सकता है। आधिकारिक सूत्र ने बताया, आईपीपीबी  को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया संभालता है, वहीं पोस्ट आफिस की बैंकिंग सर्विसेज वित्त मंत्रालय के अंतर्गत आती हैं। आईपीपीबी कस्टमर्स  एनईएफटी, आरटीजीएस और अन्य मनी ट्रांसफर सर्विसेज इस्तेमाल कर पाएंगे जो अन्य बैंकिंग कस्टमर्स करते हैं। एक बार पोस्ट आफिस सेविंग्स अकाउंट्स आईपीपीबी  से लिंक हो गए, तब सभी कस्टमर्स दूसरे बैंकों की तरह ही कैश ट्रांसफर की सभी सर्विसेज इस्तेमाल कर पाएंगे। सूत्र ने बताया कि भारतीय डाक कि मई से भारतीय डाक सभी खाताधारकों को इस सुविधा का लाभ उठाने का मौका देगा। यह सर्विस पूरी तरह से वैकल्पिक है, अगर पोस्ट आफिस खाताधारक इसे अपनाना चाहेंगे तो उनके खाते को आईपीपीबी से लिंक कर दिया जाएगा।

शेयर करे

Add a Comment